विश्व निमोनिया दिवस क्यों मनाया जाता है

World Pneumonia Day 2022 निमोनिया बीमारी के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए हर साल 12 नवंबर को ‘विश्व निमोनिया दिवस’ मनाया जाता है। विश्व निमोनिया दिवस पहली बार वर्ष 2009 में मनाया गया था। तो जानेंगे यहां इससे जुड़ी हर एक डिटेल्स।

दिवसविश्व निमोनिया दिवस का इतिहास

यह दिन पहली बार 12 नवंबर 2009 को ग्लोबल कोएलिशन अगेंस्ट चाइल्ड न्यूमोनिया (Global Coalition against Child Pneumonia) द्वारा मनाया गया था। तब से हर साल यह दिन एक नई थीम के साथ सेलिब्रेट किया जा रहा है।

निमोनिया होने के लक्षण

निमोनिया की शुरुआत आमतौर पर सर्दी, जुकाम से होती है। जब फेफड़ों में संक्रमण तेजी से बढ़ने लगता है, तो तेज बुखार के साथ सांस लेने में तकलीफ होती है। सीने में दर्द की शिकायत होने लगती है

मुख्य तथ्य

निमोनिया से साल 2015 में 5 साल से कम आयु वर्ग के 920136 बच्चों की मृत्यु हुई, जो कि पांच साल से कम उम्र के बच्चों की मृत्यु का 16% है। - निमोनिया को आसानी से रोका जा सकता है और बच्चों में होने वाली मृत्यु का इलाज भी पॉसिबल है, फिर भी हर 20 सेकंड में संक्रमण से एक बच्चा मर जाता है।

विश्व निमोनिया दिवस का उद्देश्य

विश्व निमोनिया दिवस मनाने का उद्देश्य लोगों में इस बीमारी के प्रति जागरुकता पैदा करना है। कि ये बीमारी किन वजहों से होती है, क्या इलाज है इन सबसे लोगों को वाकिफ कराना। जिससे लोग इसके लक्षणों की पहचान कर समय से इलाज करवा सके।

क्या है निमोनिया?

निमोनिया सांस से जुड़ी एक गंभीर समस्या है, जिसमें फेफड़ों में इंफेक्शन हो जाता है। निमोनिया होने पर लंग्स में सूजन आ जाती है और कई बार पानी भी भर जाता है। निमोनिया वायरस, बैक्टीरिया और कवक सहित कई संक्रामक एजेंट्स की वजह से होता है।

World Pneumonia Day: वैसे तो निमोनिया की समस्या छोटे बच्चों में ज्यादा देखने को मिलती है। लेकिन ये किसी भी उम्र में हो सकती है। निमोनिया में फेफड़े में इंफेक्शन हो जाता हैं। फेफड़ों में पानी, मवाद भरने से सांस लेने में दिक्कत, मवाद और कफ की समस्याएं परेशान करने लगती हैं।

निमोनिया कुछ आम लक्षण

जी मचलना, उल्टी या दस्त होना। कफ और बलगम वाली खांसी होना। जरूरत से ज्यादा थकान महसूस करना। बुखार, पसीना और कंपकंपी होना। सांस लेने में कठिनाई महसूस होना।

घरेलू उपचार

1. नमक के पानी से गरारे करें 2. पिपरमिंट टी आजमाएं 3. एक कप कॉफी रहेगी असरदार 4. हल्दी भी है फायदेमंद 5. अदरक की चाय भी है असरदार 6. खुद को हाइड्रेटेड रखें